कृषि पिटारा मुखिया समाचार

अमरूद की अधिक पैदावार के लिए उन्नत किस्मों का करें चुनाव

नई दिल्ली: अगर आप फलों की खेती कर अच्छा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो आपके लिए अमरूद की खेती एक अच्छा विकल्प साबित हो सकती है। खास तौर पर ताइवानी अमरूद की खेती। इस किस्म की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसके एक फल का वजन लगभग 300 से लेकर 800 ग्राम तक होता है। यही नहीं, इसका फल तोड़ने के 8 दिन बाद भी खराब नहीं होता है। इस वजह से आपको फल को बाज़ार तक ले जाने के लिए अच्छा खासा समय मिल जाता है। इस किस्म की एक विशेषता यह भी है कि बारिश होने की स्थिति में अन्य प्रजातियों के अमरूद एक साथ पकने लगते हैं, लेकिन इस किस्म के साथ ऐसा नहीं है।

ताइवानी अमरूद के पौधे टिशू कल्चर से तैयार किए जाते हैं। इस किस्म के अमरूद की खेती थोड़ी महंगी ज़रूर है, लेकिन इसमें लाभ भी इसी हिसाब से है। यानी अगर आप ताइवानी अमरूद के दस हज़ार पौधे लगाते हैं तो इसमें लगभग 37 से 40 हज़ार रुपए की लागत सिर्फ पौधों के लगाने पर आएगी। लेकिन इससे आपको 6 से 12 महीने बाद ही फल प्राप्त होने लगेंगे और आपकी आमदनी शुरू हो जाएगी। ताइवानी अमरूद में आमतौर पर साल में तीन बार फल आते हैं। एक एकड़ में अमरूद की इस किस्म के करीब 800 पौधे लगते हैं, जो 6 महीने से 1 एक साल के अंदर फल देने लगते हैं। इनसे पहले साल एक एकड़ से 8 से 10 टन का उत्पादन मिलता है। प्रति पौधा 8 से 10 किलो फल देता है। जबकि दूसरे साल प्रति पौधे से 20 से 25 किलो फल निकलता है, जिससे उत्पादन 25 टन तक हो जाता है।

किसान मित्रों, ताइवानी अमरूद की खेती के लिए खेत की तैयारी करते समय सबसे पहले खेत की गहरी जुताई कर लें। इसके बाद खेत में पकी हुई गोबर खाद के साथ बायो कल्चर प्रोडक्ट डालें। इसके बाद ट्रैक्टर की सहायता से पाल बना लें। ध्यान रहे कि कतार से कतार की दूरी 9 फीट व पौधे से पौधे की दूरी 5 फीट बरकरार रहे। इसके अलावा पौधे को आधे फीट की गहराई में बोएँ।

आपको बता दें कि बारिश के दौरान जुलाई से अगस्त महीने के बीच ताइवानी अमरूद के पौधे लगाने का सही समय होता है। बेहतर होगा कि आप इसकी खेती में जैविक खादों जैसे जीवामृत, वर्मी कम्पोस्ट और मटका खाद का उपयोग करें। जहाँ तक बात है सिंचाई की तो आप ड्रिप इरीगेशन विधि अपना सकते हैं। गर्मी के मौसम में 5 से 7 दिनों के अंतराल पर व अन्य दिनों में आवश्यकता अनुसार आप पौधों की सिंचाई कर सकते हैं। अगर आप उपरोक्त बातों पर अमल कर अच्छी पैदावार प्राप्त कर लेते हैं तो आपको शानदार मुनाफा मिलेगा। बाज़ार में ताइवानी अमरूद समान्यतः 40 रूपये प्रति किलो के हिसाब से बिकता है। ऐसे में, अगर आप साल में 25 टन अमरूद का उत्पादन करते हैं तो आपको कम से कम 9 लाख रुपए की आमदनी होगी।

Related posts

Leave a Comment