Change Maker गुरुग्राम

बेहतर कल की उम्मीद जगाता एक ‘खास स्कूल’

कैसा महसूस करेंगे हम जब अचानक से हमारे सारे शब्द छीन लिए जाएँ? या फिर शब्द हमारे पास रहें और हम उन्हें बोल न पाएँ? हमें अपनी बातें समझाने में खासी मशक्कत करनी पड़ जाए? हम शब्दों के जरिये अपना प्रेम और अपनी करुणा न दर्शा पाएँ? कल्पना कर ही रूह काँप उठती है। पर उनका क्या जो हर रोज इन परिस्थितियों से दो-चार होते हैं?

चलिए, आज उस दुनिया में चलते हैं। शायद हमें हमारा फ़र्ज़ याद आ जाए…

यदि ये वीडियो आपको अच्छी लगी या यदि आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हैं तो कृपया हमें info.radiopitaara@gmail.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें गांवों की कोई भी सकारात्मक ख़बर या उसका वीडियो 89290 38128 पर भेज सकते हैं।

Related posts

Leave a Comment