कृषि पिटारा छोटका पत्रकार पटना

बिहार के किसान ऐसे शामिल हो सकते हैं किसान चौपाल में

पटना: बिहार में किसान चौपाल की व्यवस्था को अब वर्चुअल प्लैटफॉर्म के जरिये किसानों तक पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से एक्चुअल चौपालों में किसानों की उपस्थिति कम हो रही थी। इसे देखते हुए बिहार कृषि विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा निदेशालय ने यह नई व्यवस्था शुरू की है। नौ नवम्बर को पहली ई किसान चौपाल के साथ यह व्यवस्था राज्य में लागू हो गई है।

अब हर महीने चार चौपाल लेगेंगी। सभी चौपालों में अलग-अलग विषय पर किसानों से बात होगी। इसके लिए बीएयू ने कैलेंडर तैयार कर लिया है। हर चौपाल दिन के तीन से पांच बजे तक लगेगी। इनमें कृषि, पशुपालन, मत्स्यपालन और उद्यान आदि विषयों पर चर्चा की जाएगी। चौपाल का जो भी विषय होगा इसकी जानकारी पहले ही किसानों को दे दी जाएगी। उसी हिसाब से किसानों को जुड़्ने की सलाह दी जाएगी। ई चौपाल में संबंधित विषय से अलग प्रश्न नहीं लिये जाएंगे। क्योंकि दूसरे पश्नों का उत्तर देने के लिए वैज्ञानिक उस दिन उपस्थित नहीं रहेंगे।

चौपाल की नई व्यवस्था में बीएयू के यूट्यूब से जुड़े 3.17 लाख किसान सीधे जुड सकते हैं। अन्य किसानों को विश्वविद्यालय कृषि विज्ञान केन्द्रों (केवीके) के माध्यम से लिंक भेजेगा। आपको बता दें कि राज्य में किसान चौपाल लगाने की योजना बहुत ही सफल हुई है। इसके माध्यम से अधिकारी और वैज्ञानिक सप्ताह में एक दिन किसानों से सीधे जुड़ते हैं। किसानों की समस्या का निराकरण मौके पर ही हो जाता है तो अधिकारियों को किसानों का फीडबैक मिल जाता है। लेकिन कारोना काल में किसानों की अनुपस्थिति से ये चौपाल लगभग बंद थे। इसी वजह से अब ई किसान चौपाल की शुरुआत की गई है।

Related posts

Leave a Comment