पटना मुखिया समाचार

बिहार: लॉकडाउन से कुछ और दुकानों को छूट देने के लिए लिया जा रहा है फीडबैक

पटना: बिहार सरकार राज्य में आवश्यक सेवाओं के अलावा कुछ अन्य दुकानों को खोलने पर विचार कर रही है। इसके लिए विभिन्न अधिकारियों के साथ विशेष योजना पर काम किया जा रहा है। शनिवार को इस संबंध में मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक बैठक की गयी। इसमें कुछ और दुकानों को खोलने के लिए भावी रणनीति पर विस्तार से चर्चा हुई। बैठक में इस बात पर आम सहमति दिखी कि एक साथ सभी दुकानों को खोलने की अनुमति देना ठीक नहीं होगा। ऐसे में, यह अनुमान लगाया जा रहा है कि यदि सरकार की ओर से कुछ और दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाती है तो उन्हें चरणवार तरीके से खोला जाएगा।

हालाँकि, राज्य सरकार ने यह स्पष्ट कर दिया है कि बाजार और दुकानों को खोलने का निर्णय वह खुद नहीं लेगी। इसके बारे में अंतिम फैसला जिले में तैनात अधिकारियों के द्वारा लिया जाएगा। इसके लिए जिलों से फीडबैक लिया जाएगा और फीडबैक के आधार पर ही कोई फैसला होगा। सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि, “कुछ अन्य दुकानों को खोले जाने के केंद्र सरकार के फैसले के आलोक में बिहार सरकार राज्य के सभी जिलों से फीडबैक ले रही है। अंतिम फैसला इसके बाद ही लिया जाएगा।”

आपको बता दें कि बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। राज्य में अब 22 जिले कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। रविवार तक राज्य में 277 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 26 नए मरीज हैं। ये सभी संक्रमित राज्य के छह जिलों के हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार गोपालगंज के 9, रोहतास के 6, पूर्वी चंपारण के 4, अरवल व मुंगेर के 3-3 और जहानाबाद के एक शख्स के सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली है। राज्य में अबतक 17041 सैंपलों की जांच की जा चुकी है

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 274 मरीजों में से अब तक 56 मरीज ठीक हो कर घर लौट चुके हैं। रविवार को पहला मरीज मिलने के बाद जहानाबाद भी संक्रमित जिलों में शामिल हो गया। जबकि गोपालगंज एक बार फिर कोरोना के प्रभाव क्षेत्र में आ गया है। पिछले कई हफ्तों से इस जिले में किसी संदिग्ध की रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई थी।

Related posts

Leave a Comment