कृषि पिटारा

बिहार: राज्य फसल सहायता योजना के तहत किसानों को मिलेगी प्रति हेक्टेयर दस हजार रुपए तक सहायता राशि

पटना: खेती के दौरान आने वाली प्रकृतिक आपदाओं तथा विपरीत परिस्थितियों के चलते बुआई और कटाई के समय होने वाले नुकसान से बिहार के किसानों को बचाने के लिए राज्य सरकार ने एक महत्वपूर्ण पहल की है। इसके तहत रबी सीजन 2023-24 के लिए राज्य राज्य फसल सहायता योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत, किसानों को उनकी फसलों को होने वाले नुकसान के विरुद्ध आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

राज्य फसल सहायता योजना के अनुसार, राज्य के किसानों को फसलों को नुकसान होने पर आर्थिक मुआवजा प्रदान किया जाएगा। इस योजना के तहत फसल में 20% नुकसान होने पर किसानों को प्रति हेक्टेयर 7,500 रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। जबकि 20% से अधिक नुकसान होने पर यह राशि 10,000 रुपए प्रति हेक्टेयर होगी। यह योजना रैयत और गैर-रैयत दोनों तरह के किसानों को लाभ पहुंचाएगी।

कृषि विभाग, बिहार द्वारा यह बताया गया है कि इस योजना के तहत सहायता राशि किसी भी खेती क्षेत्र की फसल के लिए प्रदान की जा सकती है। इसमें कुछ प्रमुख रबी फसलों को शामिल किया गया है, जैसे – गेहूं, मक्का, गन्ना, चना, अरहर, सरसों, मसूर, गोभी, आलू, टमाटर, बैंगन और मिर्ची इत्यादि। जैसा कि इस योजना का लाभ रैयत और गैर-रैयत किसान उठा सकते हैं। रैयत किसान वह हैं जिनके पास खुद का खेत है और उनकी जमीन पर ही खेती होती है, जबकि गैर-रैयत किसान वह हैं जिनके पास अपनी जमीन नहीं है, लेकिन वह दूसरे के जमीन पर खेती करते हैं। इस योजना के लिए किसान 31 मार्च तक आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया और आवश्यक दस्तावेजों के बारे में अधिक जानकारी के लिए किसान राज्य के सहकारिता विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं।

Related posts

Leave a Comment