छोटका पत्रकार मुखिया समाचार

कोरोना संक्रमण: स्थिति की समीक्षा के बाद यूपी के कुछ जिलों को मिल सकती है छूट

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के कुछ जिलों को लॉकडाउन से थोड़ी छूट देने के संकेत दिये हैं। माना जा रहा है कि ऐसे जिले, जो कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक अछूते हैं या कम प्रभावित हैं वहाँ कुछ और गतिविधियाँ शुरू करने के लिए जल्द ही थोड़ी-बहुत छूट मिल सकती है। यह छूट क्षेत्र विशेष की वर्तमान स्थिति का ठोस विश्लेषण करने के बाद ही दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने इस संबंध में वस्तुस्थिति की समीक्षा करने के लिए विभिन्न अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि, “3 मई के पश्चात औद्योगिक इकाइयों को किस प्रकार शुरू किया जाए, इसके लिए एक कार्य योजना तैयार की जाए। प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने की कार्य योजना बनायी जाए। और प्रयागराज से वापस भेजे जा रहे प्रतियोगी छात्र-छात्राओं का स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाए।” बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने वाराणसी, हापुड़, रामपुर, मुजफ्फरनगर और अलीगढ़ में वरिष्ठ प्रशासनिक, पुलिस एवं स्वास्थ्य अधिकारी भेजने के भी निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से प्रदेश में जोन के आधार पर कुछ और गतिविधियों को शुरू करने के लिए ठोस योजना बनाने को कहा है। संभव है कि अगले कुछ दिनों में ग्रीन और ऑरेंज जोन में कुछ लोगों को लॉकडाउन के दौरान अपना काम-धंधा शुरू करने की छूट मिल जाए।

यूपी के ग्रीन जोन में उन जिलों को शामिल किया गया है जहां अभी तक कोई कोरोना का मरीज नहीं मिला है। इस जोन में वे भी जिले शामिल किए जा सकते हैं जहां पहले कोरोना का मरीज मिल चुके हैं लेकिन पिछले 28 दिन में कोई नया केस नहीं आया हो। इसे जिले को ग्रीन जोन में माना जाएगा। इस जोन में रेड ऑरेँज जोन वाले भी जिले शामिल हो सकते हैं। बस वहां पिछले 28 दिन में नया कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिलना चाहिए। अब तक यूपी के इन जिलों में अंबेडकरनगर, अमेठी, बलिया, देवरिया, चित्रकूट, फर्रुखाबाद, कानपुर देहात, सिद्धार्थनगर, कुशीनगर, ललितपुर, महोबा, हमीरपुर फतेहपुर, चंदौली और सोनभद्र शामिल है।

ऑरेंज में यूपी के उन जिलों को शामिल किया गया है जहां 14 दिन से कोई नया कोरोना का केस नहीं मिला है। इस जोन में भी उन जिलों को शामिल किया जा सकता है जहां पहले कोराना के संक्रमित ज्यादा मरीज थे लेकिन पिछले 14 दिन में अगर कोई नया संक्रमित मरीज नहीं मिला जो उसे ऑरेंज जोन का जिला माना जाएगा। अभी तक यूपी के ऑरेंज जोन में बागपत, बरेली, गाजीपुर, आजमगढ़, हरदोई, प्रतापगढ़, शाहजहांपुर, बांदा, महाराजगंज, हाथरस, मिर्जापुर, औरैया, बाराबंकी, कौशांबी, प्रयागराज, मथुरा, बदायूं, मुजफ्फरनगर, भदोही, संत रविदासनगर, जौनपुर, कासगंज, इटावा, संभल, उन्नाव, कन्नौज, मैनपुरी, गोंडा, मऊ, लखीमपुर, पीलीभीत, एटा, सुलतानपुर, श्रावस्ती, बलरामपुर, बहराइच, बलरामपुर, अयोध्या, जालौन, गोरखपुर व झांसी शामिल है।

यूपी के रेड जोन में उन जिलों को शामिल किया गया है जहां 20 से ज्यादा मरीज है। इन जिलों के मरीज अगर ठीक होते जाते हैं और वहां कोई नया मरीज नहीं मिलता तो उसके ग्रीन या ऑरेंज जोन में भी शामिल किया जा सकता है। यूपी में अभी आगरा, लखनऊ, गाजियाबाद, नोएडा, कानपुर, मुरादाबाद, वाराणसी, शामली, मेरठ, बुलंदशहर, बस्ती, हापुड़, फिरोजाबाद, सहारनपुर, रायबरेली, बिजनौर, सीतापुर, रामपुर, अमरोहा, संतकबीरनगर, अलीगढ़ रेड जोन में हैं।

Related posts

Leave a Comment