shorts

हरी खाद है मिट्टी के लिए वरदान

नई दिल्ली: बिना सड़े हुए पौधों के उस भाग को, जिसे हम मिट्टी में मिलाकर खाद के रूप में उपयोग करते हैं, उसे हरी खाद कहते हैं। हरी खाद जैविक खेती का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसका मकसद नाइट्रोजन को मिट्टी में संपोषित करना और मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ यानी सॉइल ऑर्गेनिक कार्बन की मात्रा को बढ़ाना है ताकि कम रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग किया जाए। यह खाद मिट्टी के लिए बहुत ही पोषणयुक्त होती है।

Related posts

Leave a Comment