छोटका पत्रकार मुखिया समाचार

झारखंड: कौशल विकास विभाग द्वारा जल्द ही की जाएगी प्रवासी श्रमिकों को प्रशिक्षण दिलाने की व्यवस्था

राँची: कोरोना संकट की वजह से अपने राज्य वापस लौटे श्रमिकों को झारखंड सरकार प्रशिक्षित करेगी, ताकि उनकी योग्यता के आधार पर उन्हें सही रोजगार में लगाया जा सके। इसके लिए झारखंड कौशल विकास मिशन सोसाइटी ने राज्य के 3,92,771 प्रवासी कामगारों का चयन किया है। इन श्रमिकों को उनके जिले के स्तर पर प्रशिक्षण दिया जाएगा।

श्रमिकों को प्रशिक्षण देने की जिम्मेदारी जिला कौशल पदाधिकारी और जिला कौशल समन्वयकों को दी गई है। ये पदाधिकारी अपने जिले के श्रमिकों से फोन के माध्यम से संपर्क करेंगे। इस दौरान श्रमिकों से उनकी रुचि पूछी जाएगी और उसी आधार पर उन्हें प्रशिक्षित करने की योजना बनाई जाएगी।

श्रमिकों को स्थाई आजीविका दिलाने के लिए झारखंड कौशल विकास मिशन सोसाइटी के द्वारा योजना बनाई जा रही है। इसमें अर्ध कुशल कर्मियों को उनकी योग्यता के अनुसार कम समय का कौशल प्रशिक्षण दिया जाएगा।

प्रशिक्षण के लिए चुने गए श्रमिकों को केंद्र सरकार की तर्ज पर गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके लिए केंद्र सरकार के द्वारा गिरिडीह, हजारीबाग और गोड्डा से कुछ प्रवासी श्रमिकों का चयन भी इस योजना के लिए कर लिया गया है।

केंद्र सरकार ने अल्पकालिक प्रशिक्षण और अनुभव के आधार पर प्रशिक्षण के लिए गिरिडीह से 1902,हजारीबाग से 1700 और गोड्डा से 1282 प्रवासी कामगारों का चयन किया है।

जबकि झारखंड कौशल विकास मिशन सोसाइटी द्वारा चुने गए प्रवासी श्रमिकों में सबसे ज्यादा गिरिडीह से 57766 और सबसे कम रामगढ़ से 4076 प्रवासी श्रमिक शामिल हैं। बताया जा रहा है कि संस्थान खुलने के बाद इन सभी श्रमिकों को प्रशिक्षण देने का काम शुरू किया जाएगा।

Related posts

Leave a Comment