कृषि पिटारा मुखिया समाचार

उत्तर प्रदेश में अब तक नहीं दिख रही है धान की सरकारी खरीद में तेजी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में धान की सरकारी खरीद शुरू हो चुकी है। लेकिन अनुमान के अनुसार इसमें प्रगति दिखाई नहीं पड़ रही है। क्योंकि खराब मौसम की वजह से प्रदेश के अधिकांश किसान समय पर धान की कटाई करने से वंचित रह गए हैं। इस वजह से उन्होने धान की बिक्री के लिए अबतक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं किया है। इस स्थिति को देखते हुए खाद्य एवं रसद विभाग ने उचित दर विक्रेताओं के माध्यम से भी किसानों का रजिस्ट्रेशन कराने का निर्णय लिया है। इसके अलावा किसान मोबाइल ऐप के माध्यम से भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार 23 अक्टूबर तक धान बेचने के लिए लगभग 2.98 लाख किसानों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। जबकि पिछले साल इस समय तक पांच लाख से अधिक किसानों ने धान की बिक्री के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। धान की कटाई के लिए अनुकूल मौसम नहीं होने की वजह से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में अबतक धान की कटाई नहीं हो पाई है। बारिश के कारण काफी किसान अपनी फसल को सुरक्षित करने में व्यस्त थे, इस वजह से धान की बिक्री में अबतक पिछले साल जैसी तेजी देखने को नहीं मिल रही है।

उपरोक्त परिस्थिति को देखते हुए खाद्य एवं रसद विभाग ने कृषकों का रजिस्ट्रेशन उनके निकटतम उचित दर विक्रेताओं के माध्यम से भी कराने का फैसला किया है। रजिस्ट्रेशन के इच्छुक किसानों द्वारा अभिलेखों सहित उचित दर विक्रेता से संपर्क करने पर बहुत ही सुगमता के साथ उनके पंजीकरण की प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा। इसके बाद किसान अपने नजदीक की मंडी में जाकर धान की बिक्री कर पाएंगे। इस संबंध में आयुक्त (खाद्य एवं रसद) द्वारा सभी जिलाधिकारियों व जिला पूर्ति अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिया गया है।

Related posts

Leave a Comment