कृषि पिटारा पटना मुखिया समाचार

फूलगोभी की यह किस्म बहुत कम समय में हो जाती है तैयार, जानिए इसकी अन्य खूबियाँ

पटना: फूलगोभी की खेती करने वाले किसानों के लिए अब एक ऐसी किस्म उपलब्ध हो गई है, जिसकी खेती कर आप पहले के मुकाबले अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। जी हाँ, बिहार कृषि विश्वविद्यालय ने फूलगोभी की ‘सबौर अग्रिम’ किस्म विकसित की है। सबौर अग्रिम बेहद ही कम समय में तैयार वाली किस्म है। यह गोभी की एक अगेती किस्म है और इसे शीतोष्ण और उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में ऊगाया जा सकता है।

सबौर अग्रिम किस्म को भारत सरकार की वेराइटी रिलीज कमेटी द्वारा देश की हर जलवायु में उगाए जाने की मान्यता मिल चुकी है। इस किस्म की सबसे बड़ी खासियत ये है कि यह 65 से 70 दिनों में पक जाती है। जहाँ फूलगोभी की दूसरी किस्में फूल आने के बाद 30-40 दिनों में पकती हैं वहीं, यह किस्म फूल आने के मात्र 10 दिनों के बाद ही पक जाती है।

इस किस्म की एक और विशेषता यह है कि इसके सभी फूल एक साथ तैयार होते हैं। इस वजह से इसके फूलों एक साथ काटकर बाजार में बेचा जा सकता है। इससे किसानों को अन्य फसलें उगाने के लिए समय पर खेत खाली हो जाता है। यही नहीं ‘सबौर अग्रिम’ किस्म का एक फूल 250 से 500 ग्राम का होता है। इस किस्म को साल भर में दो बार उगाया जा सकता है। इस लिहाज से भी सबौर अग्रिम किस्म की खेती किसानों के मुनाफे में बढ़ोतरी करने वाली साबित हो सकती है।

अगर आप ‘सबौर अग्रिम’ किस्म की खेती शुरू करना चाहते हैं तो इसकी नर्सरी तैयार करने के लिए 20 मई से 20 जुलाई का समय उत्तम है। नर्सरी तैयार करने के बाद आप 20 जून से 25 अगस्त के बीच इसकी रोपाई कर सकते हैं। यही नहीं, फरवरी महीने में रोपाई करके मई महीने में आप इस किस्म से पुनः उपज प्राप्त कर सकते हैं।

Related posts

Leave a Comment