छोटका पत्रकार जानकारी पिटारा व्यवसाय पिटारा

सोलर चरखा मिशन : रोजगार के साथ-साथ गांवों में स्वच्छता का भी होगा विस्तार

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 27 जून 2018 को संयुक्त राष्ट्र एमएसएमई दिवस के अवसर पर ‘सौर चरखा मिशन’ शुरू किया, ताकि सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण आर्थिक भूमिका को चिह्नित किया जा सके.

सौर चरखा मिशन के बारे में:

  • सौर चरखा मिशन में 50 समूह शामिल होंगे.
  • यह मिशन कारीगरों को रोजगार देने के उद्देश्य से शुरू किया गया हैं.
  • यह मिशन 50 क्‍लस्‍टर को कवर करेगा तथा प्रत्‍येक क्‍लस्‍टर 400 से 2000 कारीगरों को नियुक्‍त करेगा.
  • इस मिशन को भारत सरकार द्वारा अनुमोदिन कर दिया गया है.
  • इस मिशन के लिए एमएसएमई मंत्रालय कारीगारों को 550 करोड़ रुपये की सब्सिडी वितरित करेगा.
  • सौर चरखा मिशन से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार पैदा होगा, जो पर्यावरण अनुकूल अर्थव्‍यवस्‍था में योगदान देगा.
  • सौर चरखा मिशन का मुख्य लक्ष्य देश भर में पांच करोड़ महिलाओं को जोड़ना है.
  • इस योजना के तहत, सरकार पहले दो वर्षों के दौरान एक लाख महिलाओं को नौकरियां देगी.
  • सौर चरखा मिशन 2018 के तहत महिलाओं के लिए एक नया काम पाने का एक शानदार अवसर होगा.
  • इस योजना को विशेष रूप से देश भर में महिलाओं के लिए लॉन्च किया गया हैं.

Related posts

Leave a Comment