कृषि पिटारा

मिट्टी के अलग-अलग रंगों की क्या है वजह?

नई दिल्ली: विज्ञान के अनुसार, मिट्टी के सृजन में हजारों-लाखों वर्षों तक का समय लगता है। इसका स्वरूप पूरी पृथ्वी पर एक सा नहीं होता है। विभिन्न क्षेत्रों में मिट्टी के रंग और गुणों में बड़ा अंतर होता है, जिसे वैज्ञानिक वर्गीकरण के रूप में अध्ययन किया जाता है। इस रहस्यमयी प्रक्रिया के पीछे छिपे हुए सवालों के जवाबों की खोज में वैज्ञानिकों ने मिट्टी के अलग-अलग स्वरूपों के कारणों को खोज रहे हैं। मिट्टी की विविधता का मुख्य कारण है उसकी रासायनिक संरचना। जगह के आधार पर भी मिट्टी के रंग में विविधता होती है और इसमें तापमान, बारिश जैसे जलवायु कारकों के अलावा मौजूद जैविक तत्व भी योगदान करते हैं। मिट्टी के रंग या स्वरूप के विभिन्न कारण होते हैं। जैसे –

लाल रंग का कारण: लाल मिट्टी में आयरन ऑक्साइड की उपस्थिति होती है, जिसे जंग भी कहते हैं। मिट्टी जितनी ज्यादा गहरे लाल रंग की होती है, उतनी ही ज्यादा पुरानी होती है। कोकोनीनो बलुआ पत्थर और धूल में मिला लोहा भी मिट्टी को लाल रंग देता है।

पीले रंग का कारण: पीले रंग की मिट्टी में आयरन ऑक्साइड की मात्रा कम होती है, जिससे उसका रंग पीला हो जाता है। इसके अलावा, मिट्टी की अन्य विशेषताओं पर भी इसका असर होता है।

गहरे या काले रंग की मिट्टी: गहरे रंग की मिट्टी में जैविक पदार्थ होने की संभावना ज्यादा होती है, जिससे यह खेती के लिए उपयुक्त होती है। इसमें ह्यूमस या खाद की अधिक मात्रा होती है।

हल्के रंग की मिट्टी: हल्के रंग की मिट्टी वर्षावनों या रेगिस्तान में पाई जाती है और इसमें ह्यूमस या खाद की कमी होती है, जिससे पता चलता है कि मिट्टी में पोषण की कमी है।

सफेद मिट्टी: सफेद मिट्टी में चूना और नमक की अधिक मात्रा होती है और यह रेगिस्तान में देखी जा सकती है।

इस प्रकार, मिट्टी के रंग न केवल उसके सृष्टि के कारण होते हैं, बल्कि उन्हें समझना भी कृषि और वन्यजीव अध्ययनों के लिए महत्वपूर्ण है। इस अनुसंधान से हमें मिट्टी के विभिन्न प्रकारों की खोज में मदद मिलेगी और सुस्त या अव्यवस्थित कृषि में सुधार करने के लिए नए तरीके विकसित किए जा सकते हैं।

Related posts

Leave a Comment